बिहार की सड़कों पर जल्द ही दौड़ेंगी इलेक्ट्रिक से चलने वाली बसें



--अभिजीत पाण्डेय,
पटना-बिहार, इंडिया इनसाइड न्यूज़।

बिहार की सड़कों पर जल्द ही इलेक्ट्रिक से चलने वाली बसें दौड़ेंगी। पटना वासियों को लग्जरी इलेक्ट्रिक बसों की सहूलियत देने की तैयारी पूरी हो चुकी है। जल्द ही इसकी शुरुआत होगी। इसके लिए आठ बसें पटना के फुलवारीशरीफ पहुंच चुकी हैं। इन आधुनिक इलेक्ट्रिक बसों के बारे में बताया जा रहा है कि यह एक घंटे में रिचार्ज होंगी, और फुल रिचार्ज होने पर यह 250 किलोमीटर तक का सफर तय करेंगी।

बिहार राज्य पथ परिवहन निगम (बीएसआरटीसी) ने आठ इलेक्ट्रिक बसों की खरीदारी की है। फिलहाल इलेक्ट्रिक बसों को राजधानी पटना से राजगीर होते हुए बिहार शरीफ और पटना से हाजीपुर होते हुए मुजफ्फरपुर तक चलाया जाएगा। अगर यह सफल रहा तो बाकी जिलों को भी इलेक्ट्रिक बस प्रोजेक्ट से जोड़ा जाएगा। इन बसों का किराया सामान्य बसों से कम होगा।

इलेक्ट्रिक बसों के परिचालन के बाद हाजीपुर और पटना के बीच सीएनजी बसें चलाने की भी तैयारी है। शुरुआत में सीएनजी बसों का परिचालन जेपी सेतु से होते हुए हाजीपुर से पटना तक की जाएगी। बिहार राज्य पथ परिवहन निगम ही इन बसों की खरीदारी कर रहा है। पटना में चलने वाली इलेक्ट्रिक बसों की संख्या 21 होगी। वहीं मुजफ्फरपुर और बिहारशरीफ में दो-दो बसों का परिचालन होगा। पटना पहुंच चुकीं आठ बसों का रजिस्ट्रेशन और परमिट की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। यह सभी बसें परिवहन विभाग के फुलवारीशरीफ डिपो में लगी है। बाकी बसें राजस्थान के अलवर से मार्च के दूसरे सप्ताह तक यहां आने की संभावना है।

फुलवारीशरीफ डिपो में एक साथ आठ इलेक्ट्रिक बसों को चार्ज करने के लिए आधा एकड़ जमीन पर प्लेटफॉर्म तैयार किया गया है। एक घंटे के अंदर बस फुल चार्ज हो जाएगी और इससे लगभग 250 किलोमीटर तक चलेगी। उम्मीद है कि मार्च के पहले सप्ताह में इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन शुरू कर दिया जाएगा। इन बसों में सीट से लेकर लुक तक सब लग्जरी बस जैसा है।

डीजल बसों की तुलना में इलेक्ट्रिक बसें ज्यादा अरामदायक हैं। इनमें वातानुकूलित, जीपीएस सिस्टम, सीसीटीवी कैमरा, ऑटोमेटिक ट्रांसमिशन, आईटीएस डिस्प्ले वैरियेबल मैसेज डिस्प्ले, आपातकालीन बटन, इमरजेंसी हैमर, हाइड्रोलिक पावर स्टीयरिंग जैसी तमाम आधुनिक सुविधाएं दी गई हैं। इलेक्ट्रिक बसों में 25 सीट पैसेंजर के लिए है। इसमें दिव्यांगों के लिए व्हील चेयर खड़ी करने के लिए भी जगह दी गई है। साथ ही उनके लिए हाइड्रोलिक रैंप की भी सुविधा है।

ताजा समाचार

  India Inside News


National Report



Image Gallery
Budget Advertisementt