बिहार के लोगों में दूध-दही, पनीर, पेड़ा और गुलाब जामुन खाने का बढ़ा है क्रेज



--अभिजीत पाण्डेय,
पटना-बिहार, इंडिया इनसाइड न्यूज़।

बिहार के लोगों में दूध-दही, पनीर, पेड़ा और गुलाब जामुन खाने का क्रेज बड़े स्तर पर बढ़ा है। बात अगर केवल बिहार की सहकारी संस्था कांफेड द्वारा तैयार सुधा के दुग्ध उत्पादों और मिठाईयों की ही करें तो बिक्री के आंकड़े जबर्दस्त है। निजी क्षेत्र में आइसक्रीम कंपनियों के अधिक आ जाने से सहकारी सेक्टर के आइसक्रीम ब्रांड की बिक्री 2015-16 के 1743 टन से घटकर 2019-20 में 1598 टन हो गयी है।

आर्थिक सर्वेक्षण में विगत तीन वर्षों में पनीर और पेड़ा आदि की बिक्री का आंकड़ा दिया गया है। वर्ष 2015-16 में सुधा के पनीर की बिक्री 3946 टन थी जो 2019-20 में बढ़कर 5457 टन हो गयी है। इसी तरह अगर पेड़ा की बात करें तो कांफेड ने 2015-16 में 1190 टन पेड़ा बनाया और बेचा जो 2019-20 मे बढ़कर 1377 टन हो गया।

कांफेड ने गुलाबजामुन को भी ब्रांड बनाकर बेचना शुरू किया। गुलाबजामुन के आंकड़े यह बता रहे कि पेड़ा से अधिक कद्रदान हैैं इसके। 2015-16 में 1220 टन गुलाबजामुन कांफेड ने बेचे तो 2019-20 में बढ़कर 1582 टन हो गया।

दो वर्षों क्रमश: 2018-19 तथा 2019-20 में घी और लस्सी का उत्पादन 29 प्रतिशत बढ़ा है और दही के उत्पादन में 34 फीसद का इजाफा हुआ है। वर्ष 2015-16 में सुधा ब्रांड दही की बिक्री 8088 टन थी जो 2019-20 में बढ़कर 12650 टन हो गयी है। दूध 2015-16 मेे प्रति दिन 12.18 लाख लीटर बिक रहा था जो 2019-20 में 15.06 लाख टन प्रति दिन हो गया। लस्सी 2015-16 में 4103 टन बिका था जो 2019-20 में बढ़कर 10371 टन हो गया।

ताजा समाचार

  India Inside News


National Report



Image Gallery
Budget Advertisementt