वट सावित्री व्रत 2021



--डॉ• इंद्र बली मिश्रा,
काशी हिंदू विश्वविद्यालय,
वाराणसी-उत्तर प्रदेश, इंडिया इनसाइड न्यूज़।

हिंदू पंचांग के अनुसार, वट सावित्री व्रत हर साल ज्येष्ठ माह की अमावस्या के दिन रखा जाता है। यह व्रत पति की दीर्घायु और संतान के उज्जवल भविष्य के लिए रखा जाता है। माता सावित्री की कथा तो लगभग सभी ने सुनी होगी। वट सावित्री व्रत करने से सुहागन महिलाओं को अखंड सौभाग्य और संतान की प्राप्ति होती है।

■ वट सावित्री व्रत तिथि : 10 जून 2021, दिन गुरुवार को मनाया जाएगा क्योंकि अमावस्या तिथि का प्रारंभ 9 जून 2021 को दोपहर 01:57 बजे से हो रहा है, जिसका समापन 10 जून 2021 को शाम 04:22 बजे होगा अतः 10 जून को ही यह व्रत मनाया जाएगा जिस का पारण 11 जून 2021, दिन शुक्रवर को होगा।

■ वट सावित्री व्रत का महत्व : धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, माता सावित्री अपने पति के प्राण यमराज से मुक्त कराकर ले आई थीं। इसी वजह से इस व्रत का विशेष महत्व है। इस व्रत में महिलाएं वट वृक्ष और सावित्री-सत्यवान की पूजा करती हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार वट वृक्ष में ब्रह्मा, विष्णु और महेश तीनों देवताओं का वास होता है। मान्यता के अनुसार, वट सावित्री व्रत की कथा को सुनने मात्र से ही व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। इस व्रत से सुहागिन महिलाओं को अखंड सौभाग्य और संतान की प्राप्ति होती है।

ताजा समाचार

  India Inside News


National Report



Image Gallery
Budget Advertisementt