महिला कोच के साथ यौन उत्पीड़न के आरोपी हरियाणा के मंत्री का इस्तीफा



--राजीव रंजन नाग,
नई दिल्ली, इंडिया इनसाइड न्यूज़।

भारतीय जनता पार्टी हाई कमान के निर्देश पर हरियाणा के खेल मंत्री और भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान संदीप सिंह को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा। पार्टी हाई कमान के दखल के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर हरकत में आए और अपने मंत्रिमंडल के सदस्य संदीप सिंह को फौरन इस्तीफा देने के निर्देश दिया।

संदीप सिंह पर एक जूनियर महिला कोच ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे। उन्होंने अपना इस्तीफा राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को सौंप दिया। उधर राज्य के पुलिस प्रमुख की तरफ से तीन सदस्यीय समिति का गठन किया गया है जो मामले की जांच कर रही है। हालांकि महिला कोच के आरोपों को संदीप सिंह ने बेबुनियाद बताया है। उनका कहना है कि उनकी जानबूझकर छवि खराब की जा रही है।

संदीप सिंह ने कहा, जानबूझकर छवि खराब की जा रही है। मुझे उम्मीद है कि मुझ पर लगाए गए झूठे आरोपों की गहन जांच होगी। मैं जांच रिपोर्ट आने तक खेल विभाग की जिम्मेदारी मुख्यमंत्री को सौंपता हूं।

उधर मामले की जांच सही तरीके से कराने के लिए महिला कोच ने हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज से अंबाला में मुलाकात की। इस दौरान पीड़िता ने गृह मंत्री को आप बीती सुनाई। जूनियर महिला कोच ने आरोप लगाया कि 2016 रियो ओलंपिक के बाद संदीप सिंह ने उन्हें इंस्टाग्राम स्नैपचैट पर मैसेज भेजे थे। महिला ने यह भी कहा कि कुछ समय पहले संदीप ने उन्हें अपने ऑफिस बुलाया था और कहा कि तुम मुझे खुश रखो मैं तुम्हे खुश रखूंगा। महिला के मुताबिक, खेल मंत्री संदीप सिंह ने उनके साथ छेड़छाड़ भी की। लेकिन वह किसी तरह अपने आपको बचाकर वहां से निकल आईं। महिला ने कहा कि इसके बाद उनका ट्रांसफर कर दिया गया और उन्हें परेशान भी किया गया।

इस बीच चंडीगढ़ पुलिस ने शुक्रवार को एक जूनियर एथलेटिक्स कोच की शिकायत के आधार पर हरियाणा के खेल मंत्री संदीप सिंह के खिलाफ यौन उत्पीन और आपराधिक धमकी का मामला दर्ज किया है।

यहां मिल रही जानकारी के अनुसार जूनियर महिला कोच की शिकायत से पार्टी और सरकार को हो रही फजीहत के मद्देनजर पार्टी को दखल देना पड़ा। थोड़ी देर बाद उनसे इस्तीफा मांग लिया गया।

महिला ने विपक्षी पार्टी इंडियन नेशनल लोकदल के कार्यालय में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की, जिसमें मांग की गई है कि मनोहर लाल खट्टर सरकार संदीप सिंह को तुरंत बर्खास्त करे और मामले की जांच के लिए एक विशेष जांच दल का गठन करे। उसने कहा कि मंत्री ने पिछले साल फरवरी से नवंबर तक सोशल मीडिया पर बार-बार संदेश भेजकर उसे परेशान किया। उसने उसे अनुचित तरीके से छुआ और उसे संदेशों में धमकी भी दी। उसने आरोप लगाया कि लगातार उत्पीड़न के कारण उसे सोशल मीडिया छोड़ना पड़ा। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने भी मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की थी।

शिकायतकर्ता ने कहा कि श्री सिंह ने पहले उसे एक जिम में देखा और फिर इंस्टाग्राम पर उससे संपर्क किया। बाद में मंत्री उनसे मिलने के लिए जोर देते रहे। उन्होंने कहा, "उसने मुझे इंस्टाग्राम पर मैसेज किया और कहा कि मेरा राष्ट्रीय खेल प्रमाणपत्र लंबित है और इस संबंध में मिलना चाहता है।" "दुर्भाग्य से, मेरा प्रमाणपत्र मेरे महासंघ द्वारा खो दिया गया है और मैं इसे संबंधित अधिकारियों के साथ उठा रहा हूं।" महिला ने कहा कि वह आखिरकार उनके पास उनके आवास-सह-कैंप कार्यालय में उनके पास मौजूद कुछ अन्य दस्तावेजों के साथ मिलने के लिए तैयार हो गई और आरोप लगाया कि जब वह वहां गई तो मंत्री ने यौन दुराचार किया।

कुरुक्षेत्र में पिहोवा से मौजूदा बीजेपी विधायक संदीप सिंह एक पेशेवर फील्ड हॉकी खिलाड़ी भी हैं, और भारतीय राष्ट्रीय हॉकी टीम के कप्तान थे। 2018 में संदीप सिंह पर आधारित एक बायोपिक रिलीज हुई थी, जिसका नाम 'सूरमा' था, जिसमें लोकप्रिय पंजाबी गायक और अभिनेता दिलजीत दोसांझ ने उनकी भूमिका निभाई थी। वह रियलिटी टीवी शो एमटीवी रोडीज में जज भी थे। जब वह 20 वर्ष के थे, तब बंदूक की गोली के घाव से चमत्कारिक रूप से उबरने के बाद वह प्रसिद्ध हो गए। श्री सिंह को रेलवे पुलिस बल के एक सहायक उप-निरीक्षक द्वारा गलती से गोली मार दी गई थी।

हरियाणा के खेल मंत्री संदीप सिंह पर छेड़छाड़ और आधिकारिक मानसिक प्रताड़ना का आरोप लगाने वाली जूनियर एथलेटिक्स कोच ने आज राज्य के गृह मंत्री अनिल विज से मुलाकात की और कहा कि अगर खेल मंत्री को गिरफ्तार किया जाता है तो ऐसी और महिलाएं सामने आएंगी जिनका उत्पीड़न किया गया है। "आखिर कब तक कोई इंसान चुप रहेगा?" कोच ने यह आरोप लगाते हुए कहा कि उसने संदीप सिंह को कई बार मना किया है, लेकिन उसकी हरकतें जारी रहीं। कोच ने कहा कि खेल मंत्री ने फरवरी से ही उन्हें बार-बार परेशान किया। लगातार उत्पीड़न के कारण उसे सोशल मीडिया छोड़ना पड़ा।

उन्होंने कहा, "एक समय आता है जब आपको अपनी आवाज उठानी पड़ती है। खेल मंत्री ने आधिकारिक तौर पर मुझे मानसिक रूप से परेशान किया है।" उन्होंने कहा कि उनकी शिकायत के बाद खेल मंत्री के खिलाफ मामला दर्ज किया गया और उन्हें विश्वास है कि उन्हें न्याय मिलेगा।

ताजा समाचार

National Report

  India Inside News




Image Gallery