सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने कृषि व विर्निमाण क्षेत्र के वाहनों के लिए दो प्रकार के ईंधन के उपयोग को अधिसूचित किया



नई दिल्ली, 04 दिसम्बर 2018, इंडिया इनसाइड न्यूज़।

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने कृषि व विर्निमाण क्षेत्र के वाहनों के लिए दो प्रकार के ईंधन के उपयोग की अधिसूचना जारी की है। इन वाहनों में ट्रैक्टर, पावर टिलर, विनिर्माण उपकरण वाहन और कंबाइन हारवेस्टर शामिल हैं। इन वाहनों में प्राथमिक ईंधन के रूप में डीजल और दूसरे ईंधन के रूप में सीएनजी या बायो सीएनजी का उपयोग होता है। केंद्रीय मोटर वाहन नियम 1989 के नियम 115 ए और 115 बी को संशोधित किया गया है तथा इसमें नये नियम 115 एए और 115 बीबी को जोड़ा गया है। इस निर्णय से वाहनों में बायो-ईंधन के उपयोग को बढ़ावा मिलेगा और इससे लागत तथा प्रदूषण में कमी आएगी।

अधिसूचना के अनुसार दो प्रकार के ईंधन का उपयोग करने वाले वाहनों के धुएं और भाप से संबंधित उत्सर्जन मानक, डीजल से चलने वाले वाहनों के समान ही होंगे। केवल एक अंतर यह है कि हाईड्रोकार्बन के स्थान पर एनएमएचसी (गैर-मीथेन हाइड्रोकार्बन) को जोड़ा गया है। नियम 115 ए में इसकी विस्तृत व्याख्या की गयी है।

नियम 115 ए में वर्णित सूक्ष्म कणों तथा धुएं के उत्सर्जन से संबंधित मानक दोहरे ईंधन वाले वाहनों पर भी लागू होगा। सीएनजी, बायो-सीएनजी या एलएनजी आधारित किट की वैधता अवधि 3 वर्षों की होगी। वाहन का निर्माण करने वाली कंपनी या किट लगाने वाली कंपनी सुरक्षा मानकों तथा ईंजन व किट उपकरणों की जिम्मेदार होगी।

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने मई में संशोधन से प्रभावित होने वाले लोगों से आपत्तियों और सुझावों को आमंत्रित किया था। आम लोगों से प्राप्त आपत्तियों और सुझावों के उचित विचार के बाद केंद्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 में संशोधन करने की अधिसूचना जारी की गई है।

Big on Hosting. Unlimited Space & Unlimited Bandwidth

कार्टून
इ-पत्रिका इंडिया इनसाइड
इ-पत्रिका फैशन वर्ल्ड
Newsletter
राष्ट्रीय विशेष