जमाई षष्ठी के दिन कर्मचारियों को आधे दिन की छुट्टी



---रंजीत लुधियानवी, कोलकाता, 14 जून 2018, इंडिया इनसाइड न्यूज़।

ईद की छुट्टी शनिवार को होने के कारण राज्य के सरकारी कर्मचारी निराश थे कि उनकी एक छुट्टी का नुकसान हो गया। लेकिन राज्य सरकार की ओर से आगामी मंगलवार 19 जून को ‘जमाई षष्ठी’ के दिन सरकारी कर्मचारियों को ‘आधे दिन की छुट्टी’ देकर उनके गम को खुशी में बदल दिया है।

राज्य में हिंदु बंगालियों की ओर से ‘दामाद’ को साल में एक दिन इस मौके पर तरह-तरह के पकवान और उपहार देकर खुश किया जाता है। इस मौके पर कई प्रकार की हिल्सा मछली के पकवान बनाए जाते हैं। यह छुट्टी दोपहर दो बजे के बाद मिलेगी। नगर निगम, पंचायत, सरकार के तहत चलने वाली संस्थाओं, शिक्षा प्रतिष्ठानों (स्कूल-कालेज) के सभी कर्मचारियों को यह आधे दिन की छुट्टी मिलेगी।

मालूम हो कि राज्य में सत्ता परिवर्तन होने के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने 2011 में राज्य में दामाद के साथ ही मायके और ससुराल वालो को खुश करने के लिए इस छुट्टी की परंपरा को शुरू किया था। सूत्रों ने बताया कि महानगर में रजिस्ट्रार आफ एसुरेंस और कलक्टर आफ स्टांप रेवेन्यू, द वेस्ट बंगाल स्टेट वेबरेज उस दिन खुले रहेंगे।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की ओर से राज्य में सत्ता संभालने के बाद छुट्टियों की संख्या बढ़ाई गई है। पहले दुर्गापूजा में चार दिन की छुट्टी होती थी, इसे बढ़ाकर 10 दिन का कर दिया गया है। हाल में किसी व्यक्ति ने राज्य सरकार की ओर से फर्जी नोटिफिकेशन जारी करके ईद की छुट्टी एक दिन के बजाए पांच दिन (12 जून से लेकर 16 जून) तक करने का एलान किया था। कुछ देर के लिए तो लोग खुश हो गए थे कि चलो गर्मी के दिनों में छुट्टियां मिल रही हैं। खास तौर पर स्कूल के शिक्षक-शिक्षिकाओं से लेकर बच्चे ज्यादा खुश थे क्योंकि भीषण गर्मी में स्कूल खुलने जा रहे थे। लेकिन कोलकाता पुलिस की ओर से तुरंत इस फर्जी नोटिफिकेशन का खंडन करते हुए अफवाहें फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का एलान करके लोगों की खुशियों की हवा निकाल दी थी। इस मामले में मीडिया में कई लोगों के नाम छपे हैं जिन्होंने फर्जी खबर फैलाने का काम किया था, लेकिन हफ्ता भर बाद भी इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

Big on Hosting. Unlimited Space & Unlimited Bandwidth

कार्टून
इ-पत्रिका इंडिया इनसाइड
इ-पत्रिका फैशन वर्ल्ड
Newsletter
राष्ट्रीय विशेष