जन सेवा केन्द्रों के जरिए ‘स्वच्छ भारत और स्वस्थ भारत’ को जनआंदोलन का रूप दिया जाना चाहिए : रवि शंकर प्रसाद



नई दिल्ली, 14 मई 2018, इंडिया इनसाइड न्यूज़।

केन्‍द्रीय इलेक्‍ट्रानिक, सूचना प्रौद्योगिकी और विधि तथा न्‍याय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि देश में जनसेवा केन्‍द्रों से जुड़े आंदोलन में क्रांतिकारी बदलाव लाने में ग्रामीण स्‍तर के उद्यमियों ने अहम भूमिका निभाई है। श्री प्रसाद ने टेली सेंटर उद्यमिता पाठ्यक्रम पर दो दिवसीय कार्यशाला के उद्धाटन अवसर पर कहा कि समय आ गया है कि ये उद्यमी सरकार की न्‍यू इंडिया की परिकल्‍पना को साकार करने का प्रमुख माध्‍यम बनें।

उन्‍होंने जमीनी स्तर पर प्रमुख सेवाएं उपलब्ध कराने में इन उद्यमियों के प्रयासों की सराहना की और बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले ऐसे उद्यमियों के लिए केन्‍द्र तथा क्षेत्रीय स्‍तर पर पुरस्‍कार देने की परंपरा शुरु करने की घोषणा भी की। उन्‍होंने कहा कि बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले ऐसे उद्यमियों को अगले साल से एक लाख रूपए का नकद पुरस्‍कार दिया जाएगा। ये पुरस्‍कार उद्यमों की पांच श्रेणियों में क्षेत्रीय स्‍तर पर भी दिए जाएंगे।

केन्‍द्रीय मंत्री ने कहा ‘जब हमारी सरकार सत्‍ता में आयी थी तब देशभर में कुल 83000 जन सेवा केन्‍द्र थे जो अब बढ़कर दो लाख 92 हजार हो चुके हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में डिजिटल इंडिया का लक्ष्‍य हासिल करने के लिए 54 हजार ग्रामीण महिला उद्यमी कठिन परिश्रम कर रही हैं। मात्र चार वर्षों में ग्रामीण उद्यमियों का नकद लेने देन 2013-14 के एक करोड़ रूपए से बढ़कर 2017-18 में 19,000 करोड़ रुपये हो गया है। जनसेवा केन्द्रों ने देश में 10 लाख से ज्यादा लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया है। मुझे पूरा विश्वास है कि सभी ग्रामीण उद्यमी मौजूदा वित्त वर्ष में एक करोड़ रुपये के कारोबार का लक्ष्य हासिल कर लेंगे।’

ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को डिजिटल इंडिया मिशन के साथ जोड़ने में जनसेवा केन्द्रों की भूमिका की सराहना करते हुए केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि उन्हें इन केन्द्रों और ग्रामीण उद्यमियों से बड़ी अपेक्षा है। उन्होंने कहा ग्रामीण उद्यमी भारत में बड़े बदलाव का जरिया बनेंगे। यह उद्यमी ऑटोचालकों को भीम ऐप का इस्तेमाल करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं जिससे नगद रहित अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिल रहा है। श्री प्रसाद ने इस अवसर पर सेनेटरी नैपकिन बनाने वाले ग्रामीण उद्यमियों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि यह लोग महिलाओं के स्वास्थ्य और साफ-सफाई के लिए एक बड़ा काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जनसेवा केन्द्रों के माध्यम से स्वच्छ भारत और स्वस्थ भारत अभियान को जनआंदोलन बनाया जाना चाहिए।

रविशंकर प्रसाद ने कहा “हम डिजिटल अर्थव्यवस्था को एक लाख करोड़ रुपये का बनाना चाहते हैं। अगले कुछ दिनों में रेल टिकटों का आरक्षण भी जनसेवा केन्द्र के जरिए किया जा सकेगा। सीएससी ने इसके लिए देशभर में 31 बीपीओ केन्द्र खोले हैं। आने वाले समय में इनकी संख्या और बढ़ाए जाने की योजना है।”

टेली सेंटर लगाने के लिए जानकारी और प्रशिक्षण उपलब्ध कराने के लिए आज आयोजित की गई दो दिवसीय कार्यशाला में 700 ग्रामीण उद्यमियों ने भाग लिया। केन्द्रीय मंत्री ने युवा उद्यमियों से जनसेवा केन्द्रों को स्वास्थ्य और बीमा क्षेत्र से भी जोड़ने की संभावनाओं का पता लगाने के लिए कहा।

श्री प्रसाद ने टेली सेंटर खोलने के लिए प्रशिक्षण पाठ्यक्रम को सफलतापूर्वक पूरा करने वाले ग्रामीण उद्यमियों को पुरस्कार भी प्रदान किए।

Big on Hosting. Unlimited Space & Unlimited Bandwidth

कार्टून
इ-पत्रिका इंडिया इनसाइड
इ-पत्रिका फैशन वर्ल्ड
Newsletter
राष्ट्रीय विशेष